ग़ज़ल: जुस्तजू

Top Post on IndiBlogger
59

तुम से मिलने की अब भी जुस्तजू है चले कई बार पर रस्ते ही मुकाम बदल लेते हैं

Read this post on dilkisunao.blogspot.in


Jaideep Khanduja

blogs from New Delhi