66. न था रक़ीब तो आखिर वो नाम किसका था!

35

आज कुछ गज़लें, कवितायें जो याद आ रही हैं, उनके बहाने बात करूंगा। एक मेरे दिल्ली पब्लिक ल...

Read this post on samaysakshi.in


Shri Krishna Sharma

blogs from Panjim Goa