तलफ़्फ़ुज़ उनका हलक में अटका है , खामोशियों की जिरह इश्क़ की दास्तान सारे बोल रही ।

one line thought, poetry, shayari , quotes

Read this post on pushpendradwivedi.com


pushpendra dwivedi

blogs from rewa mp