0

कई बार खरोचता हूँ मेरी बिसरी यादों को, कुछ धूमिल-धूमिल सी तस्वीरें पर्दे पर चलती फिल्म सी बढ़ती जात

Read this post on puraneebastee.blogspot.in


पुरानी बस्ती

blogs from Mumbai