71

देखा जो मैंने दरिया, इन आँसुओं को रोने की इंतेहाँ मिल गयी, रिसने लगी स्याही इस दिल से, और ख़या

Read this post on doc2poet.wordpress.com


Doc2poet

blogs from Delhi