A Gazal In Which You May Find Shades Of Your Own Sentiments

Top Post on IndiBlogger
41

आज मैं आपके साथ एक ग़ज़ल शेयर करना चाहती हूं  जो मैंने २,३ साल पहले पढ़ी  थी.शायर हैं शकील उद्दीन. तो ली

Read this post on jeeteraho.blogspot.com


indu chhibber

blogs from Kota