बस यूं ही...

5

सूनी सी दोपहर हवाओं में कुछ हरारत  जरा सी सरसराहट से पन्नों का पलट जाना, और दरख्तों से छनकर आती

Read this post on tarangsinha.blogspot.com


Tarang

blogs from Delhi