3

हिंदी दिवस पर आज अनायास ही पापा के सहयोगी डॉ शेरजंग गर्ग की याद आ गयी. वह भेल (BHEL) में हिंदी अधिकारी थे और जाने माने कवि भी थे. पापा पर उनका विशेष अनुराग था क्यूँकि वह उनकी कविताओं के प्रशंसक रहे…

Read this post on travelknots.wordpress.com


Bienu Verma Vaghela

blogs from Mumbai