खींचता जाए है मुझे

Top Post on IndiBlogger
खींचता जाए है मुझे

कई बार इंसान न चाहते हुए भी किसी ओर खिंचा चला जाता है.

Read this post on dehatrkj.blogspot.in


Rajeev Kumar Jha

blogs from Bhagalpur

Popular Articles by this blogger

तेरियां ठंढियां छावां

तेरियां ठंढियां छावां

शब्दों की तलवार

शब्दों की तलवार

रुके रुके से कदम

रुके रुके से कदम

प्रेम की पराकाष्ठा

प्रेम की पराकाष्ठा

वह रहस्यमयी फ़क़ीर

वह रहस्यमयी फ़क़ीर

इक हंसी सौ अफ़साने

इक हंसी सौ अफ़साने

दास्तां सुनाता है मुझे

दास्तां सुनाता है मुझे

मैं सितारों के ख्वाब बुनता हूं

मैं सितारों के ख्वाब बुनता हूं

Recommended for you

Wordless Wednesday – 459, #CaptionThis

Wordless Wednesday – 459, #CaptionThis

Wordless Wednesday – 457 #CaptionThis

Wordless Wednesday – 457 #CaptionThis

Wordless Wednesday – 458 #CaptionThis

Wordless Wednesday – 458 #CaptionThis

Wordless Wednesday - 461, #CaptionThis

Wordless Wednesday - 461, #CaptionThis