ज़िन्दगी खोती मिलती एक चीज़ हो गई...

Top Post on IndiBlogger
19

  ज़िन्दगी खोती मिलती एक चीज़ हो गई, ज़िन्दगी रेत में मिलती तेहज़ीब हो गई , और कश्तीओं का नसीब बस डूबना हीं था, ज़िन्दगी किनारों को तरसती अजीब हो...

Read this post on probinglife.blogspot.com


Neeraj Kumar

blogs from Bokaro Steel City