ना-उम्मीद

Top Post on IndiBlogger
53

दफ़्न था जिस्म, फना रूह, मर्सिया खत्म कब कापर ये उम्मीद है कि आज भी मरती ही नहींन कोई तंज़, ...

Read this post on sunshineandblueclouds.blogspot.in


Kokila Gupta

blogs from Bangalore Hapur Himachal