snippets again ---hindi shayari

दिखा कोई इक शाम दरीचों के बीच से ऐसे जैसे बूँद आबे हयात की आ पड़ी हो मुझपे जाने कैसे उसकी नज़रे मुड़ गय

Read this post on rajni-rajnigaqndha.blogspot.in


Rajni sinha

blogs from nagpur