Woh Subah Kabhi to Aayegi

1

इन काली सदियों के सर से, जब रात का आँचल ढलकेगा जब दुःख के बादल पिघलेंगे, जब सुख का सागर छलकेगा जब अंब

Read this post on acumenimages.blogspot.in


Ashish mantri

blogs from Mumbai