ये वक़्त है भाग रहा...

0

हाथों से फिसलते वक़्त की दास्ताँ सुनाती एक कविता।

Read this post on mankikalam.blogspot.in


Manjeet Paliwal

blogs from Delhi