बचपन की पतंग

0

अजी ! काटो पतंग या कट जाए पतंग ! मिलजुल कर मौज करो सबके संग ! तिल के लड्डू और गुड़ की गजक, मुँह करो मीठा और बोलो मीठे बोल !

Read this post on noopurbole.blogspot.com


Noopur Shandilya

blogs from Navi Mumbai