मजदूरों को मिले जीवन परामर्श

Top Post on IndiBlogger
19

आखिर मजदूर पीढ़ी दर पीढ़ी मजदूर बनकर ही क्यों रह जाता है। क्या मजदूरी करना मजदूरों की नियति है या फिर स्वीकार। Bhartiya Majdoor क्यों होता है पलायन को मजबूर।

Read this post on pakheru.com


Ravi Prakash Sharma

blogs from New Delhi